शो पीस के लिए नही होती देव मूर्तिया – आचार्य प्रवीन चौहान